प्रेरक प्रसंग : बेनजीर ईमानदारी

∗ बेनजीर ईमानदारी ∗

– Real Moral Story –

sahisamay.com (2)

 

Real Moral Story –

 

1991 से 1999 तक मेरा पदस्थापन क्षेत्रीय वन अधिकारी के पद पर शिव (बाड़मेर) रेंज में था. उस समय रेंज के अधीन 50 वर्कचार्ज कर्मकार कार्यरत थे. उन्हीं में से एक केटलगार्ड नाम फोटा खाँ था. जिसका कार्य कार्यालय की निगरानी करना था. यह कर्मकार इतना शार्प था कि किसी भी कर्मचारी के बारे में जानकारी या लोकेशन मालूम करनी होती तो वह हर वक्त सटीक जानकारी तुरन्त दे देता था. कोई भी कार्य देते तो सोचता नहीं था, बल्कि उस पर कार्यवाही शुरू कर देता था.

 

1991 में जब मैं शिव लगा था उससे भी पहले फोटा खाँ डायबीटीज से पीडि़त था. छोटा कर्मकार होते हुए भी खाने पीने में पूरा संयम बरतता था. बिना इंजेक्शन लगाये कभी खाना नहीं खाता था. यानि सुगर लेवल काफी ऊंचा रहता था.

 

मेरे 1999 में शिव (बाड़मेर) से स्थानान्तरण के बाद उसके डायबीटीज की बीमारी काफी बढ गयी थी. वह मेरे पास कई बार आया. दो-तीन बार तो मेरे पास बैठे-बैठे उसका सुगर लेवल डाउन हो जाने के कारण शरीर अकड़ जाता था. उसकी मानसिक स्थिति कुछ भी पहचानने की नहीं रहती थी. तरोतर समय के साथ उसकी हालत बिगड़ रही थी. मेरे पास बडी मुश्किल से उसको शक्कर व टोफियाँ खिलाकर नोर्मल करते थे. मेरे पास वह विश्राम करता, खाना खाता व आवश्यकतानुसार उधार पैसे ले जाता था. वेतन मिलने पर पैसे लौटा देता था.

 

मैं उसके परिवार में किसी को भी नहीं जानता था. सिर्फ इतना ही ध्यान था कि यह शिव तहसील में ही झाडेली गांव का रहने वाला है.

 

खैर यह सिलसिला उसके जीवन पर्यन्त रहा. एक दिन मुझे यह समाचार मिला कि फोटे खाँ का पिछले महीने निधन हो गया. मुझे बहुत अफसोस हुआ. अन्तिम समय में मेरे उसके पास दस हजार रुपये बकाया थे. मैने सोचा कोई बात नहीं एक अच्छे आदमी के काम आये और मैं भूल गया.

 

चार-छः महीने बाद एक दिन फोटे खाँ साथ था, उसके पास का वर्कचार्ज गुले खाँ मेरे घर आया. मैने उसको आने का कारण पूछा तो उसने बताया कि, “फोटो खाँ की घरवाली (पत्नी) ने आपके उधार 10 हजार रूपये भेजे है, वो पहुंचाने आया हूँ.” साथ ही कारण बताया कि उसको कल ही फोटो खाँ का कोई क्लेम मिला था.

 

मैं गुले खाँ की बात सुनकर हैरान रह गया!! जिस पैसे को मैं भूल चुका था, जिसका जिक्र मैने कभी नहीं किया, फोटे खाँ की घरवाली को मैं जानता नहीं फिर भी फोटे खाँ की पत्नी ने पैसे भेजे!!!

 

दोस्तो मैं आज भी इस घटना को याद करके अभिभूत हो जाता हूँ. ईमानदारी की इससे बड़ी दूसरी नजीर मेरे पास नहीं है.

 

sahisamay.com

 

————–

निवेदन : 1. कृपया अपने Comments से बताएं आपको यह Post कैसी लगी.

  1. यदि आपके पास Hindi में कोई Inspirational Story, Important Article या अन्य जानकारी हो तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं. कृपया अपनी फोटो के साथ हमारी e mail ID : sahisamay.mahesh@gmail.com पर भेजें. आपका Article चयनित होने पर आपकी फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित किया जायेगा.

————–

24 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *