ओजोन दिवस | OZONE DAY in Hindi

∗ओजोन दिवस∗

– OZONE DAY –

ओजोन दिवस OZONE DAY

 

ओजोन मण्डल या ओजोन परत का निर्माण : सौर विकिरण तथा तड़ित विद्युत् के प्रभाव से वायुमंडलीय ऑक्सीजन से होता है.

ओजोन मण्डल या ओजोन परत का क्षरण : विज्ञान व प्रोद्योगिकी के विकास के साथ-साथ ओजोन परत का क्षरण भी बढ़ता जा रहा है. अवशीतन में काम आने वाले रसायन क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स (सी.एफ.सी.), बढ़ते आणविक विस्फोट, नाइट्रोजन युक्त उर्वरकों का प्रयोग और समताप मण्डल की ऊंचाई पर उड़ने वाले सुपरसोनिक विमानों से उत्पन्न होने वाली गैसों में नाइट्रस ऑक्साइड तथा क्लोरीन के मुक्त परमाणु ओजोन गैस से क्रिया कर उसे ऑक्सीजन में बदल देते हैं. जिससे ओजोन की परत का क्षरण हो रहा है.”

OZONE DAY

ओजोन दिवस 16 सितम्बर ( 1995 से ) को ओजोन परत के संरक्षण हेतु जागरुकता के लिये मनाया जाता है. U.N.O. ने 19 दिसंबर 1994 को 16 सितम्बर को International Day for the Preservation of the Ozone Layer घोषित कर दिया. यह तारीख मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल की यादगार तिथि रूप में तय की गयी. पृथ्वी की सुरक्षा की चर्चा में सर्वप्रथम इसके सुरक्षा कवच की बात करना आवश्यक है. इसका सुरक्षा कवच ओजोन मण्डल या ओजोन परत है. पृथ्वी की सतह से 15 से 35 किलोमीटर ऊंचाई तक Troposphere के ठीक उपर वाला भाग है. ओजोन मण्डल या ओजोन परत में ओजोन गैस की मात्रा अधिक होती है. ओजोन गैस ऑक्सीजन का परिवर्तित रूप है. यह एक तीक्ष्ण गंध वाली हल्के नीले रंग की गैस है.

Related Posts :

खेजडली आन्दोलन, राजस्थान

चिपको आन्दोलन, उत्तराखंड

एप्पिको | अप्पिको  आन्दोलन, कर्नाटक

विश्व पर्यावरण दिवस

पृथ्वी दिवस

वन महोत्सव

वन्य प्राणी सप्ताह

ओजोन दिवस OZONE DAY

ओजोन मण्डल या ओजोन परत

ओजोन मण्डल या ओजोन परत का निर्माण : सौर विकिरण तथा तड़ित विद्युत् के प्रभाव से वायुमंडलीय ऑक्सीजन से होता है.

ओजोन मण्डल या ओजोन परत का क्षरण : विज्ञान व प्रोद्योगिकी के विकास के साथ-साथ ओजोन परत का क्षरण भी बढ़ता जा रहा है. अवशीतन में काम आने वाले रसायन क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स (सी.एफ.सी.), बढ़ते आणविक विस्फोट, नाइट्रोजन युक्त उर्वरकों का प्रयोग और समताप मण्डल की ऊंचाई पर उड़ने वाले सुपरसोनिक विमानों से उत्पन्न होने वाली गैसों में नाइट्रस ऑक्साइड तथा क्लोरीन के मुक्त परमाणु ओजोन गैस से क्रिया कर उसे ऑक्सीजन में बदल देते हैं. जिससे ओजोन की परत का क्षरण हो रहा है.

यदि सूर्य से आने वाली सभी पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर पहुँच जाती तो पृथ्वी पर सभी प्राणी रोग से पीड़ित हो जाते. सभी पेड़ पौधे नष्ट हो जाते. लेकिन सूर्य विकिरण के साथ आने वाली पराबैगनी किरणों का लगभग 99% भाग ओजोन मण्डल द्वारा सोख लिया जाता है. जिससे पृथ्वी पर रहने वाले प्राणी वनस्पति तीव्र ताप व विकिरण से सुरक्षित बचे हुए है. इसीलिए ओजोन मण्डल या ओजोन परत को सुरक्षा कवच कहते हैं.

फ्रिज, एयरकंडीशनर, इलेक्ट्रॉनिक कलपुर्जों की सफाई, अग्निशमन यंत्र आदि में क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स के उपयोग में लगातार वृद्धि होने से ओजोन परत के क्षरण की दर बढ़ रही है. सी.एफ.सी. का एक कण ओजोन एक लाख कणों को नष्ट कर देता है. वायुमंडल के ध्रुवीय भागों में ओजोन का निर्माण अपेक्षाकृत धीमी गति से होता है. अत: ओजोन के क्षरण का सर्वाधिक प्रभाव ध्रुवों के ऊपर दिखाई देता है.

सितम्बर 2006 तक अन्टार्क्टिका अन्टार्कटिका के उपर ओजोन की परत में 40% की कमी पायी गयी थी, जिसे ओजोन छिद्र का नाम दिया गया था.

ओजोन दिवस OZONE DAY (4)

सितम्बर 2006 के रूप में सबसे बड़ा अंटार्कटिक ओज़ोन होल दर्ज

क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स का सर्वाधिक उपयोग विकसित राष्ट्र करते हैं. सितम्बर 1987 में UNEP के मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल  (Montreal Protocol) में, ओज़ोन परत को क्षरण करने वाले पदार्थों के बारे में (ओज़ोन परत के संरक्षण के लिए वियना सम्मलेन में पारित प्रोटोकॉल) अंतर्राष्ट्रीय संधि है. जो ओज़ोन परत को संरक्षित करने के लिए, चरणबद्ध तरीके से उन पदार्थों का उत्सर्जन रोकने के लिए बनाई गई है, जिन्हें ओज़ोन परत को क्षरण करने के लिए उत्तरदायी माना जाता है. इस संधि को हस्ताक्षर के लिए 16 सितंबर, 1987 को खोला गया था.

मॉन्ट्रियल में इस संधि (Montreal Protocol) पर 46 राष्ट्रों ने हस्ताक्षर किये. और यह 1 जनवरी 1989 में प्रभावी हुई, जिसके बाद इसकी पहली बैठक मई, 1989 में हेलसिंकी, में हुई. तब से, इसमें सात संशोधन हुए हैं, 1990 में (लंदन), 1991 (नैरोबी), 1992 (कोपेनहेगन), 1993 (बैंकाक), 1995 (वियना), 1997 (मॉन्ट्रियल), और 1999 (बीजिंग) में, ऐसा माना जाता है कि अगर अंतर्राष्ट्रीय समझौते का पूरी तरह से पालन हो तो, 2050 तक ओज़ोन परत ठीक होने की उम्मीद है.

व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त करने तथा लागू होने के कारण, इसे असाधारण अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के एक उदाहरण के रूप में कोफी अन्नान द्वारा यह कहते हुए उद्धृत किया कि, “आज तक हुए अंतर्राष्ट्रीय समझौतों में से मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल शायद अकेला सबसे सफल समझौता है.” इसे 196 राष्ट्रोंद्वारा मान्यता दी गई है. मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के अनुसार क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स (सी.एफ.सी.) का उत्पादन व उपयोग पूरी तरह बन्द कर इनके विकल्प के रूप में सुरक्षात्मक प्रोद्योगिकी के उपयोग को प्रोत्साहन दिया जायेगा.

ओजोन दिवस OZONE DAY (3)

मॉन्ट्रियल, कनाडा.

ओजोन दिवस के नारे (Ozone day slogans in Hindi) :
  1. ओजोन परत में हर होल, हमारी आत्मा में होल समान.
  2. ओजोन के बिना पृथ्वी, छत के बिना घर सामान.
  3. ओजोन को ओजोन ही रहने दो, ओजोन को NO जोन मत बनने दो.
  4. छाता बारिश से हम को बचाता, ओजोन सूर्य से पृथ्वी को बचाता.
  5. एक तो हमको चुनना होगा, ओजोन या नो-जोन.
  6. पृथ्वी हमारी माता है तो, ओजोन हमारी दादी-माँ है.
  7. प्रदूषण हटाओ, ओजोन बचाओ.
  8. ओजोन बचाओ, जीवन बचाओ.
  9. ओजोन बचाओ, रेड-जोन भगाओ.
  10. ओजोन परत अनमोल रतन, रक्षा का हम करें जतन.
  11. ओजोन परत को दाग से बचाओ, अगली पीढ़ी को आग से बचाओ.

Friends, हम ओजोन दिवस इन बड़ी-बड़ी बातों में न भी जावें तो, इतना जरूर समझ गये हैं कि, ओजोन परत ओजोन गैस से बनी हुई है तथा ओजोन गैस ऑक्सीजन से बनती है. ऑक्सीजन का उत्पादन पेड़-पोधों से होता है. हम क्लोरोफ्लोरो कार्बन्स का उपयोग रोक पायें या नहीं; पेड़-पोधे जरूर लगा सकते है, उनकी सुरक्षा कर सकते हैं. इसलिए अधिक से अधिक पोधे लगावें तथा उनकी सुरक्षा करें. Thanks.

ओजोन दिवस OZONE DAY

=============

निवेदन : 1. कृपया अपने Comments से बताएं आपको यह Post कैसी लगी.

  1. यदि आपके पास Hindi में कोई Inspirational Story, Important Article या अन्य जानकारी हो तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं. कृपया अपनी फोटो के साथ हमारी e mail ID : sahisamay.mahesh@gmail.com पर भेजें. आपका Article चयनित होने पर आपकी फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित किया जायेगा.

=============

6 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *