पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के अनमोल वचन | Pandit Deendayal Upadhyay Quotes in Hindi

∗पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के अनमोल वचन∗

– Pandit Deendayal Upadhyay Quotes –

 Pandit Deendayal Upadhyay

(पण्डित दीनदयाल उपाध्याय)

Quote 1. : Strength lies not in unrestrained behaviour but in well regulated action.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : शक्ति असंयमित व्यवहार में नहीं बल्कि अच्छी तरह व्यवस्थित कार्रवाई में निहित है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 2. : In the past 1000 years whatever we assimilated-whether it was forced on us or we took with willingness-cannot be discarded now.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : पिछले 1000 साल में जो कुछ भी हमने आत्मसात कर लिया है – चाहे वह हमने मजबूरी किया या हमने अपनी इच्छा से किया – अब उसे हम खारिज नहीं कर सकते हैं.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 3. : It is essential that we think about ‘Our National Identity’ without which there is no meaning of ‘independence’.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : यह जरूरी है कि हम ‘हमारी राष्ट्रीय पहचान’ के बारे में सोचें इसके बिना ‘आजादी’ का कोई अर्थ नहीं है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 4. : The basic cause of the problems facing Bharat is the neglect of Its ‘National Identity’.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : भारत के सामने समस्याएँ आने का प्रमुख कारण, अपनी ‘राष्ट्रीय पहचान’ की उपेक्षा है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 5. : Opportunism has shaken the confidence of People in Poltics.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : अवसरवाद के कारण लोगों का राजनीति से विश्वास हिल गया है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 6. : Human Knowledge is common property.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : मानवीय ज्ञान सार्वजनिक संपत्ति है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 7. : Independance can be meaningful only if it becomes instrument for expression of our Culture.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : आजादी केवल तभी सार्थक हो सकती है, जब यह हमारी संस्कृति की अभिव्यक्ति का जरिया बनती है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 8. : Opportunists with no principles rein in politics of our country.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : सिद्धांतहीन अवसरवादी हमारे देश की राजनीतिक बागडोर हड़प लेते हैं.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 9. : The fundamental characteristic of Bhartiya Culture is that it looks upon life as an integrated whole.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : भारतीय संस्कृति की मूलभूत विशेषता है कि यह एक एकीकृत समग्र रूप से जीवन पर दिखती है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 10. : There is diversity and plurality in life but we have always attempted to discover the unity behind them.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : जीवन में विविधता और बहुलता है फिर भी हमने हमेशा उनके पीछे एकता की खोज करने का प्रयास किया है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 11. : Unity in diversity and the expression of unity in various forms has remained the thought of Bhartiya Culture.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : विविधता में एकता और विभिन्न रूपों में एकता की अभिव्यक्ति, भारतीय संस्कृति की सोच रही है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 12. : Conflict is not a sign of culture of Nature rather it is a symptom of their degradation.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : टकराव प्रकृति की संस्कृति का संकेत नहीं है, बल्कि यह उसके गिरावट का एक लक्षण है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 13. : Human nature has both tendencies–Anger & Greed on the one hand and Love & Sacrifice on the other.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : मानवीय स्वभाव में दोनों प्रवृतियाँ हैं – क्रोध और लालच एक हाथ पर तो दूसरे पर प्यार और बलिदान.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 14. : Religion means a creed or a sect and it does not mean Dharma.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : धर्मनिष्ठता का अर्थ एक पंथ या एक संप्रदाय है और इसका मतलब धर्म नहीं है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 15. : Dharma is very wide concept which concerns all aspects of life sustaining the society.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : धर्म बहुत व्यापक अवधारणा है जो समाज को बनाए रखने के लिये जीवन के सभी पहलुओं से संबंधित है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 16. : When nature is channeled according to the principles of Dharma, we have culture & civilisation.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : जब स्वभाव को धर्म के सिद्धांतों के अनुसार मोड़ा जाता है, हमें संस्कृति और सभ्यता के दर्शन होते हैं.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 17. : Education is an investment. An Educated individual will indeed serve society.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : शिक्षा एक निवेश है. एक शिक्षित व्यक्ति वास्तव में समाज की सेवा करेगा.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 18. : To educate a child is in the interest of society itself.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : एक बच्चे को शिक्षित करना समाज के ही हित में है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 19. : Society must enable the individual to carry out obligations towards the society by properly educating him.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : समाज को हर व्यक्ति को ढंग शिक्षित करना होगा, तभी वह समाज के प्रति दायित्वों को पूरा करने में करने सक्षम होगा.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

Quote 20. : God has given hands to every man but hands by themselves have a limited capacity to produce. They need the assistance of the capital in the form of machines.

— Pandit Deendayal Upadhyay

In Hindi : भगवान ने हर आदमी को हाथ दिये हैं, लेकिन हाथों की खुद से उत्पादन करने की एक सीमित क्षमता है. उनकी सहायता के लिए मशीनों के रूप में पूंजी की जरूरत है.

— पण्डित दीनदयाल उपाध्याय

 Pandit Deendayal Upadhyay 1

पण्डित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी

नामपण्डित दीनदयाल उपाध्याय \ Pandit Deendayal Upadhyay
जन्म25 सितम्बर 1916
जन्म स्थानगाँव – नगला चन्द्रभान, मथुरा
मृत्यु11 फ़रवरी 1968
मृत्यु स्थानमुगलसराय के आस पास रेल में हत्या
पिता का नामभगवती प्रसाद उपाध्याय
माता का नामरामप्यारी
राष्ट्रीयताभारतीय
धर्महिन्दू
व्यवसायइतिहासकार, दार्शनिक, अर्थशास्त्री, पत्रकारिता, समाजशास्त्री, राजनीति वैज्ञानिक.
परिवार के बारे में सक्षिप्त जानकारी
  • इनके पिता रेल्वे में नौकरी होने के कारण अधिक समय बाहर ही रहते थे. दीनदयाल के छोटे भाई का नाम शिवदयाल थे. पिता भगवती प्रसाद ने बच्चों को ननिहाल उनके नाना चुन्नीलाल शुक्ल के पास धनकिया भेज दिया, तब वे वहाँ स्टेशन मास्टर थे. उनके नाना का परिवार बहुत बड़ा था. दीनदयाल अपने ममेरे भाइयों के साथ खाते खेलते बड़े हुए.
  • 3 वर्ष की मासूम उम्र में दीनदयाल पिता देहांत हो गया था. पति की मृत्यु से माँ रामप्यारी भी अत्यधिक बीमार रहने लगी थी. उन्हें क्षय रोग लग गया था और वो भी 8 अगस्त 1924 को रामप्यारी बच्चों को अकेला छोड़ चली गयीं. मात्र 8 वर्ष की आयु में ही दीनदयाल के सिर से माता-पिता साया उठ गया था.
शिक्षाउन्होंने पिलानी से स्कूली शिक्षा प्राप्त की तथा सनातन धर्म कॉलेज, कानपुर से बी. ए. किया. सेंट स्टीफन कॉलेज, आगरा से इंग्लिश में एम. ए. किया. B.Ed व M.Ed प्रयाग से किया. वे शिक्षा में हर स्तर पर अव्वल व गोल्ड मेडेलिस्ट रहे.
दृष्टिकोणएकात्म मानववाद
उल्लेखानीय तथ्य
  • सिविल सेवा परीक्षा में भी उतीर्ण हुए लेकिन नौकरी नहीं की.
  • वे नितान्त सरल और सौम्य स्वभाव के व्यक्ति थे.
  • 1937 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गये. छात्र जीवन से ही वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय कार्यकर्ता बन गये थे. कालेज छोड़ने के तुरन्त बाद वे इस संस्था के प्रचारक बन गये और एकनिष्ठ भाव से संघ का संगठन का कार्य करने लगे.
  • 1942 से पूरी तरह राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के लिये काम करना शुरू किया.
  • राष्ट्रधर्म, पाञ्चजन्य और स्वदेश जैसी पत्र-पत्रिकाएँ प्रारम्भ की.
  • सन 1951 में अखिल भारतीय जनसंघ का निर्माण होने पर उन्हें संगठन मन्त्री बनाया गया. 1951 में ही श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने उत्तर-प्रदेश का महासचिव बनाया.
  • दो वर्ष बाद सन् 1953 में वे अखिल भारतीय जनसंघ के महामन्त्री निर्वाचित हुए और लगभग 14 वर्ष तक इस पद पर रहकर उन्होंने अपने दल की अमूल्य सेवा की.
  • कालीकट अधिवेशन (दिसम्बर 1967) में वे अखिल भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष निर्वाचित हुए.
  • विलक्षण बुद्धि, सरल व्यक्तित्व एवं नेतृत्व के अनगिनत गुणों के स्वामी भारतीय राजनीतिक क्षितिज के इस प्रकाशमान सूर्य ने भारतवर्ष में समतामूलक राजनीतिक विचारधारा का प्रचार एवं प्रोत्साहन किया.
चर्चित पुस्तकेंदो योजनाएँ, राजनीतिक डायरी, भारतीय अर्थनीति का अवमूल्यन, सम्राट चन्द्रगुप्त, जगद्गुरु शंकराचार्य, एकात्म मानववाद (Integral Humanism)

यह पोस्ट पण्डित दीनदयाल उपाध्यायजी को आज उनकी 100 वीं जन्म जयंती पर सभी पाठकों की ओर से सादर समर्पित है.

=============

Note : Hindi translation में पूरी सावधानी रखने के बावजूद Mistake रह सकती है.

निवेदन : 1. कृपया अपने Comments से बताएं आपको यह Post कैसी लगी.

  1. यदि आपके पास Hindi में कोई Inspirational Story, Important Article या अन्य जानकारी हो तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं. कृपया अपनी फोटो के साथ हमारी e mail ID : sahisamay.mahesh@gmail.com पर भेजें. आपका Article चयनित होने पर आपकी फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित किया जायेगा.

=============

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *