गोडावन–पृथ्वी का नूर GIB in Hindi

∗गोडावनपृथ्वी का नूर∗

godawan

(Great Indian Bustard)

पृथ्वी पर उड़ने वाला सबसे भारी और सुन्दर पक्षी गोडावन ( Godawan ) है. Godawan का कॉमन नाम Great Indian Bustard या GIB है. Godawan राजस्थान (Rajasthan, India) का State Bird है. सामान्यतया इसके चलने की गति तेज रहती है, पर अपनी मस्ती में यह धीमे शाही चाल से चलता है. भार ज्यादा होने के कारण यह दौड़कर हवाई जहाज की तरह उड़ान भरता है. यह पक्षी अक्सर उड़ान भरने के बाद कई मील उड़ लेता पर जमीन से बहुत ज्यादा ऊंचाई पर नहीं जाता है. औसत आयु लगभग 20 वर्ष है. यह अधिकांशत: राजस्थान के थार रेगिस्थान में विशेष रूप से जैसलमेर में पाया जाता है. राष्ट्रीय मरु उद्यान, जैसलमेर (Desert National Park, Jaisalmer) Godawan संरक्षण स्थल है. DNP का क्षैत्रफल 3162 sq km है, जिसमें इनकी संख्या लगभग 50 है. पूरे संसार में इनकी संख्या 200 के अंदर रह गयी है. इनका संरक्षण मानव जात के बहुत बड़ी चुनौती है. Godawan अब धरती का कोहिनूर बन चुका है. गोडवान को बचाना एक चुनौती है. इस नूर को बचाने के हर संभव प्रयास करने का अंतिम समय आ गया है.

संरक्षण की स्थिति (Conservation Status) :

भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 में गोडावन को – अनुसूची-I (भाग III) में रखा गया है. आईयूसीएन (IUCN) द्वारा गंभीर रूप से लुप्तप्राय (Critically EndangeredCR) प्रजाति के रूप में वर्गीकृत किया गया है.

ग्रेट इंडियन बस्टर्ड (GIB) का हैबिटैट : ये ज्यादातर शुष्क और अर्ध शुष्क घास के मैदानों में पाए जाते हैं.

विशिष्ट पहचान (Special Characteristics) :

नर गोडवान का आकार पैरों सहित शीर्ष (crown) चोटी तक 90 से 120 सेमी और मादा का शीर्ष (crown) के ऊपर तक 70 से 90 सेंटीमीटर के बीच होता है. वयस्क नर का वजन 15-18 कि.ग्रा. व मादा का 7-9 कि.ग्रा. होता है. गोडवान के पंखों का  रंग ब्राउन-सफेद तथा सिर काले रंग का होता है.

ग्रेट इंडियन बस्टरर्ड गिद्ध की तुलना में काफी बड़ा होता है. माथे पर एक काला मुकुट होता है, ऊपरी शरीर भूरे रंग का पर गर्दन बहुत हल्के पीले (लगभग सफ़ेद) रंग की होती है, थोड़ी दूरी से ही यह सफ़ेद रंग की दिखती है. एक लंबा, लंबे पैर वाला पक्षी, एक यंग शुतुरमुर्ग (ostrich) की याद दिलाता है, जो शरीर को, एक विशिष्ट क्षैतिज गाड़ी की तरह अपने मजबूत नंगे पैरों से सम कोण पर खींचता है.

Godawan की छाती के नीचे (lower breast) की ओर सफेद पृष्ठभूमि पर सुंदर चौड़ा काले रंग का हार-सा (gorget) बना होता है. पंखों पर काले, भूरे और ग्रे रंग की विशिष्ट डिज़ाइन होती है.

ग्रेट इंडियन बस्टर्ड (GIB) आमतौर पर अकेले या दो या ज्यादा के समूह में भी रहते हैं. गोडावन आम तौर पर बहुत शर्मीली प्रवृति के व चौकन्ने पक्षी होते हैं. और ये विरले ही बन्दूक की गोली के जद में आते हैं. बैलगाड़ी, ऊँट आदि जो ग्रामीण इलाकों में सामान्यतया पाये जाते हैं, जिनके ये पक्षी अभ्यस्त होते हैं, इनसे धोखे में रखकर छल कपट से इनका शिकार किया जाता है. इन्ही से धोखा देकर उन्हें बन्दूक की गोली के शिकार बनाया जाता है अन्यथा ये गोली की जद में नहीं आते हैं.

शिकार का कारण (Reason of Hunting) :

GIB शिकार होने का एक मात्र कारण यह भ्रमना है कि इसका मांस खाने से सेक्सुअल पॉवर बढती है. जबकि साइंटिफिकली यह असत्य है. और न ही इसके किसी Part की तस्करी का मामला सामने आया है.

वर्गीकरण (Classification) :

सामान्य नाम (Common Name) – ग्रेट भारतीय बस्टर्ड (Great Indian Bustard)

स्थानीय नाम (Local Name)– गोडावन (Godawan)

जूलॉजिकल नाम (Zoological Name) – आर्डियोटिस निग्रिसेप्स (Ardeotis nigriceps)

किंगडम (Kingdom) – एनिमालिया (Animalia)

फाइलम (Phylum) कोर्डेटा (Chordata)

कक्षा (Class) एवेस (Aves)

ऑर्डर (Order) ग्रुइफ़ोर्मेस (Gruiformes)

फैमिली (Family) – ओटिडिडाई (Otididae)

जीनस (Genus)  आर्डियोटिस  (Ardeotis)

वितरण (Distribution) :

राजस्थान थार रेगिस्तान के कुछ हिस्सों में, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, मध्य भारत का बड़ा हिस्सा, मध्य प्रांत और दक्कन में पाया जाता है.

आदत और आवास :

भारतीय बस्टर्ड बहुत तेज गति से दौड़कर झाड़ियों में छुप जाते हैं व उनकी छाया में बैठते हैं और आराम करते हैं.

ये कीड़े, बीटल्स, रोडेंट्स, लिज़ार्ड्स, मेंढक, प्लस के बीज, कोंपलें, पत्ते, जड़ी बूटियां, जंगली केर, बेर, पीलू, तेल के बीज, खेती की हुई अनाज और फली के पौधों पर फ़ीड करता है.

परिपक्व बस्टर्ड केवल, खुले अर्ध-रेगिस्तान मैदानों और विरल घास वाले इलाके से प्रभावित रहता है जिसमे छितराई हुई झाड़ियाँ या खेती साथ में मिलती है. यह अक्सर खड़ी फसलों में घुस जाते हैं जिसमें ये पूरी तरह से छिप जाते हैं.

प्रजनन (Breading) :

प्रजनन के लिए परिपक्वता; नर में पांच से छह साल और मादाओं में दो से तीन वर्ष में आती है. केवल मादा अंडे सेती हैं और बच्चों का पोषण करती हैं. व्यावहारिक रूप से पूरे वर्ष के दौरान प्रजनन चलता है, लेकिन मुख्यतः जनवरी-फरवरी और जुलाई-सितंबर के बीच होता है. गेस्टेशन पीरियड 25-26 दिन होता है. 27- 28 दिन में चिक अंडे से बहार निकाल जाते हैं. यह आम तौर पर एक वर्ष में एक अंडा देते हैं. ये अंडा देने के लिए कोई घोंसला नहीं बनाते हैं. खुले में ही अंडा देते हैं. अंडे का रंग पीला जैतून-भूरे रंग का होता है और गहरे भूरे रंग के साथ बेहद धुंधला होता है.

नर प्रजनन के समय-समय पर एक गहरी गूंजने वाली कॉल करता है, जिसे लगभग 500 मीटर दूर तक सुना जा सकता है. ग्रेट इंडियन बस्टर्ड की सामान्य अलार्म कॉल गरजने या भूंकने के सामान होती है, कुछ-कुछ हूक की तरह होती है. प्रजनन के मौसम में नर, जो जाहिरा तौर पर एक से अधिक मादा के साथ संसर्ग करता है, मादा की खुश करने व रिझाने के लिए पहले एक शानदार प्रदर्शन करता है. मगरे (ऊँची जगह) पर चढ़कर एक विशिष्ट नृत्य करता है. वह गर्दन और गले को फुलाए (जिसे गुलर पाउच कहते हैं) हुए पंखों को फैलता है. पूंछ उठाता है और पंखे की तरह फैलता है, पंखों को झुकाता और झालर बनता है, इस दौरान वह एकदम धीमी, गहरी आहें भरता है, जिसे एक मादा आसानी से सुन सके.

=============

निवेदन : 1. कृपया अपने Comments से बताएं आपको यह Post कैसी लगी.

2. यदि आपके पास Hindi में कोई Inspirational Story, Important Article या अन्य जानकारी हो तो आप हमारे साथ शेयर कर सकते हैं. कृपया अपनी फोटो के साथ हमारी e mail ID : sahisamay.mahesh@gmail.com पर भेजें. आपका Article चयनित होने पर आपकी फोटो के साथ यहाँ प्रकाशित किया जायेगा.

=============

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *