Category: Inspirational शेर

प्रेरणादायक शेर [Pack-7] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari –   1.   उम्मीद वक्त का सबसे बड़ा सहारा है, अगर हौसला हो हर-मौज में किनारा है |   2.   थोड़ी आँच बची रहने दो थोड़ा धुँआ निकलने दो, कल देखोगे कई मुसाफ़िर इसी बहाने आएँगे |   3.   जुस्तजू हो तो सफर ख़त्म कहाँ

प्रेरणादायक शेर [Pack-6] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗प्रेरणादायक शेर∗ – Inspirational Shayari –   1. एक दिन भी जी मगर तू ताज बनकर जी अटल विश्वास बनकर जी अमर युग गान बनकर जी | 2.   दाना गुलो-गुलज़ार होता है मिट्टी में मिल जाने के बाद, रंग लाती है हिना पत्थर पे पिस जाने बाद |   3. गम की अँधेरी रात

प्रेरणादायक शेर [Pack-5] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari – “प्रेरणा का प्रतीक”   1. पहले अपना दिल आइना कीजिए, फिर किसी से उम्मीदे वफा कीजिए |   2. जबान देने में जल्दी न करो, और जबान रखने में देरी न करो |   3. आप कहते हैं कि रोने से न बदलेंगे नसीब, आपकी इस बात

प्रेरणादायक शेर [Pack-4] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari –    Major Dhyan Chand (गुदड़ी का लाल) 1. मैं तो अकेला ही चला था जानिबे-मंजिल मगर, लोग साथ आते गए कारवाँ बनता गया | 2. चल ऐ नजीर, इस तरह से कारवाँ के साथ, जब तू न चल सके तो तेरी दास्ताँ चले | 3. उठो इंतिहा

प्रेरणादायक शेर [Pack-3] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari – “Virat Kohli”   1.   मिटा सके जमाना जमाने में दम नहीं, हमसे है जमाना जमाने से हम नहीं |   2.   अगर देखना चाहते हो तुम मेरी उड़ान को, तो जाओ जाकर थोड़ा ऊचा करो इस आसमान को |   3.   अगर फलक को

प्रेरणादायक शेर [Pack-2] | Inspirational Shayari in Hindi.

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari –   1. सर फरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजू .ए .कातिल में है | 2. झुकते वो हैं जिनमें जान होती है, अकड़ना मुर्दों की पहचान होती है | 3. जिन्दगी अपने कंधों पे जीती जाती है, दूसरों के कंधों

प्रेरणादायक शेर [Pack-1] | Inspirational Shayari in Hindi

∗ प्रेरणादायक शेर ∗ – Inspirational Shayari –   (शिवाजी महाराज)   1.   खुदी को कर बुलन्द इतना, कि हर तकदीर से पहले | खुदा बन्दे से खुद पूछे, बता तेरी रजा क्या है |   2.   लक्ष्य न ओजल होने पाये, कदम मिलाकर चल | मंजिल तेरे पग चूमेगी, आज नहीं तो