∗शिवाजी और शाइस्ता खाँ∗    (6 अप्रैल 1663 को : सूर्यास्त होने वाला था. शिवाजी के सब सैनिक अलग-अलग योजना से पुणे में घुसे.) 1. आदिलशाह द्वितीय की औरंगजेब अपील : शिवाजी द्वारा अफजल खाँ का वध करने के बाद आदिलशाह द्वितीय ने सिद्दी जौहर के नेतृत्व में शिवाजी को समाप्त करने के उद्देश्य से …
∗गौतम बुद्ध के प्रेरक प्रसंग∗ 1. तुम कब रुकोगे? - मगध राज्य में एक सोनापुर नाम का गाँव था. उस गाँव के लोग शाम होते ही अपने घरों में आ जाते थे. और सुबह होने से पहले कोई घर के बाहर कदम भी नहीं रखता था. इसका कारण एक खूंखार डाकू था. डाकू मगध के …
∗शिवाजी और सिद्दी जौहर∗   — शिवाजी कासिद, पन्हालगढ़ — 1. अफजल खाँ की शिकस्त के बाद : छत्रपति शिवाजी महाराज ने अफजल खाँ को प्रतापगढ़ में मारने के बाद आदिलशाही में आक्रमण कर पन्हालगढ जैसे महत्त्वपूर्ण गढ़ पर कब्ज़ा कर लिया. तब आदिलशाह द्वितीय ने सिद्दी जौहर को “सलाबत जंग”, खटाव प्रांत की सेना …
∗अफज़ल खाँ और शिवाजी∗ 1 नवम्बर 1656 को बीजापुर के सुल्तान आदिलशाह की मृत्यु हो गई. इससे बीजापुर में अराजकता का माहौल पैदा हो गया. इस स्थिति का लाभ उठाकर औरंगज़ेब ने बीजापुर पर आक्रमण कर दिया और शिवाजी ने औरंगजेब का साथ देने की बजाय उस पर धावा बोल दिया. फलस्वरूप औरंगजेब शिवाजी से …
∗बूमरैंग से बचें∗   .बूमरैंग. सौजन्य – Google Imaze. बूमरैंग आस्ट्रेलिया के आदिवासियों द्वारा प्रयुक्त एक मुड़ा हुआ बाण जो फेंकने वाले के पास लौट आता. अच्छी न लगने वाली बात या अव्यवहारिक बात या बुरी बात के जवाब में की गयी प्रतिक्रिया (Reaction) बूमरैंग (BOOMERANG) की तरह है. ऐसी प्रतिक्रिया से कोई सकारात्मक परिणाम नहीं …